सोमवार, 26 अक्तूबर 2009

वीर भोग्या वसुंधरा

इन दिनों भारत और चीन के संबंधों को लेकर लगातर चर्चा हो रही है। प्रधानमंत्री की अरुणांचल यात्रा के बाद चीन ने जो बयान दिया, उससे पूरा देश हतप्रभ है। हालांकि हमारे नेताओं ने चीन के बयान का कड़ा प्रतिवाद किया है, लेकिन देश की सवा सौ करोड़ जनता सकते में है। देश के शीर्ष पत्रकार हरिवंश ने इस मुद्दे पर पिछले दिनों दैनिक प्रभात खबर में एक ऐतिहासिक आलेख लिखा है। हाल के कुछ समय में मैंने ऐसा विचारोत्तेजक आलेख नहीं पढ़ा है। यह आलेख दिलो-दिमाग को हिलाकर रख देता है और हमें आत्मघाती मुगालते से बाहर निकलने का संदेश देता है। इसमें स्पष्ट किया गया है कि कैसे चारित्रिक पतन एक राष्ट्र के तेज और स्वाभिमान को कुंद कर सकता है - रंजीत ।

भारत की रीढ़ पर हथौड़े पड़ रहे हैं, पर कहीं आह भी नहीं. केंद्र सरकार इस आह को तोपना-दबाना चाहती है. विपक्ष के लिए यह मुद्दा ही नहीं है. इस देश का पक्ष-विपक्ष मुद्दाविहीन है. एक ही सूत्र है, देश की राजनीति में कुरसी हथियाओ. देश की मीडिया कंज्यूमर क्लास बढ़ाने की होड़ में है. बुद्धिजीवी वर्ग अक्षम है. किशन पटनायक के शब्दों में कहें, तो एक अक्षम बुद्धिजीवी वर्ग जनसाधारण को दुर्बल और नपुंसक बना दे सकता है. इस तरह लाभ-लोभ और भोग में फ़ंसा भ्रष्ट बुद्धिजीवी वर्ग राष्ट्रीय चरित्र बिगाड़ता है और हमारा राष्ट्रीय चरित्र रह कहां गया है? हम बिकनेवाली भ्रष्ट कौम हैं. भ्रष्टाचार, कमीशन, वंश, परिवार और धन के लाभ के बीच फ़ंसा-उलझा हमारा शासक वर्ग, हमारी राजनीति और हमारा विजन.
नहीं तो भारत की धरती पर (दिल्ली) रह कर चीन ने हमारे साथ क्या सलूक किया है? एक अक्तूबर को चीन ने साम्यवादी क्रांति के 60 वर्ष मनाये. उसी दिन उसने अपनी वह ताकत दुनिया को दिखायी कि दुनिया सदमे में है. अमेरिका की सांस ठहरी हुई है. 60 वर्ष पहले जिस चीन ने दुनिया के अन्य देशों के हथियाये 14 विदेशी वायुसेना विमानों से अपने पहले परेड की शुरूआत की, उसकी आज यह ताकत? इस तरह के अधुनातन हथियार-9000 किमी दूर तक मार करनेवाले मिसाइल-प्रक्षेपास्त्र. खास न्यूक्लीयर मिसाइल और हाइटेक मिसाइलों का प्रदर्शन, बिना चालक के हवाई जहाज, आसमान में ही रिफ्यूलिंग करनेवाले जहाज, एक-से-एक खतरनाक बमवर्षक जहाज, जासूसी के लिए नये-नये हवाई जहाज हैं. इस दंभ और रूप के साथ नुमाइश की ये सभी चीजें चीन में ही बनी हैं. जिस दर्शक ने भी चीन की यह ताकत, शानो-शौकत और अधुनातन अस्त्र-शस्त्र देखा होगा, वह हतप्रभ और हैरत में होगा. उसकी उपलब्धि पर, पुरुषार्थ पर, राष्ट्रीय गौरव और अस्मिता के अहं पर.
पर भारत के लिए यह भी चिंता की बात न मानें. पर उसी दिन चीन के दूतावास ने दिल्ली में क्या किया? जम्मू-कश्मीर में रहनेवाले भारतीयों के लिए वीसा संबंधी अलग कागजात जारी कर रहा है. यानी भारत स्थित चीन के दूतावास ने अघोषित रूप से दुनिया को कह दिया है कि जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं है. वह अलग मुल्क है. याद रखिए, अरुणाचल प्रदेश को तो वह अपना घोषित कर ही चुका है. वहां के लोगों को भी अलग वीसा देता है. उस राज्य में भारत के राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री का कार्यक्रम होता है, तो चीन चेतावनी देता है और भारत उसे नाखुश नहीं करना चाहता.
जिस दिन चीन अक्तूबर क्रांति (एक अक्तूबर) की 60वीं साल गिरह मना रहा था, उसी दिन चीन से खबर आयी कि अब दुनिया के देशाों को अधुनातन शस्त्रों के लिए अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन जर्मनी का गुलाम नहीं रहना होगा. चीन आज से दुनिया का बड़ा शस्त्र विक्रेता है. यह भी खबर आयी कि अमेरिकी एफ़-16 जैसे खतरनाक विमान, जो चीन ने बनाये हैं, वह पाकिस्तान को बेच रहा है. पाकिस्तान में 98 में हुए परमाणु विस्फ़ोट के बाद तो यह प्रमाणित खबर आ ही चुकी है कि पाकिस्तान का वह परमाणु बम चीन में बना था. एक अक्तूबर को नेपाल से यह भी खबर आयी कि नेपाल में चल रहे चीनी स्टडी सेंटर का इस्तेमाल भारत के खिलाफ़ जासूसी के लिए किया जा रहा है. भारत नेपाल सीमा पर ऐसी 30 चीनी फ़र्मे हैं, जिनमें से 24 भारत की जासूसी में लगी हैं.यह रा की रिपोर्ट है. नेपाल के माओवादी या प्रचंड कैसे चीन की भाषा बोल रहे हैं और भारत के खिलाफ़ विष उगल रहे हैं, यह दुनिया देख रही है. पाकिस्तान तो चीन की गोद में ही है. सैनिकों द्वारा भारत की सीमा पर हुए अतिक्रमण की घटनाओं पर नजर डालें, तो चीन के इरादे साफ़-साफ़ दिखाइ्र देंगे. भारत के वायुसेनाध्यक्ष कई बार सार्वजनिक बयान दे चुके हैं कि चीन इससे कई गुना ताकतवर है. यह कोई और नहीं कह रहा बल्कि जिन पर देश की सुरक्षा का दारोमदार है, वह सार्वजनिक चीत्कार कर रहा है. विषयांत्तर होगा, पर यहा एक चीज हम नोट कर लें कमजोर से कमजोर देश भी सरकारी या सार्वजनिक बयान नहीं देते कि हम कमजोर हैं. सेना के प्रमुख को न यह बयान देना चाहिए था, न सरकार को इसकी इजाजत. यह केंद्र सरकार के घटते प्रताप और राजनीति की अगंभीरता का सबसे बड़ा नमूना है. 26/11 की घटना यानी मुंबई में पाकिस्तानी हमलावरों-आतंकवादियों के हमलों के बाद नौ सेनाध्यक्ष का क्या बयान आया था? याद करिए, उससे अपनी नौसेना की क्षमता, काबिलियत, कार्यकुशलता और ताकत का सार्वजनिक एहसास हो गया? ब़दतर और अक्षम छवि जो दबी-दबी थी, उजागर हो गयी. कब से सेनाध्यक्ष लोग, राजनीतिज्ञों की तरह बयान देने के लिए अधिकृत हो गये? यह उनका काम नहीं है. यह सियासत का, सरकार का, संसद का, राजनीति का और समाज का मामला है. पर सब चुप हें, न सरकार ने और न विपक्ष ने कहा कि यह क्या हो रहा है? बयानबाजी, वह भी सेना प्रमुख अंदरूनी कमजोरी की बात खुले आम कहें, तो पस्त और निराश देश और हताश होगा. उन्हें चुपचाप सरकार को अपनी अंदरूनी कमजोरी बतानी चाहिए थी. पर इस देश की राजनीति तो पटरी से उतर गयी है. इसलिए ऐसे संवेदनशील सवालों पर राजनीति, समाज और बुद्धिजीवी वर्ग खामोश हैं.
ऊपर से सितम यह कि मीडिया में चीनी घुसपैठ की खबरें छपती हैं, तो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम के नारायणन मीडिया को उपदेश देते हैं कि वह चीन-भारत के बीच अप्रिय हालात पैदा कर रहा है? क्या मीडिया के कारण चीन का यह दर्प दिखाई दे रहा ह ? सरकार कहती है कि सब सामान्य और ठीक है. क्या मीडिया अरूणांचल, जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करार दे चुका है? क्या मीडिया पाकिस्तान को बम और बमवर्षक जहाज दे रहा है, क्या मीडिया कह रहा है कि नेपाल में चीन भारत के खिलाफ़ जासूसी कर रहा है या भारत सरकार का रा कह रहा है? इस तरह लगातार चीन भारत के रीढ़ पर हथौड़े मार रहा है, पर हम उफ़ भी नहीं बोल पा रहे हैं. यह रहा हमारा राष्टीय स्वाभिमान, राष्ट्रीय चरित्र. दुनिया जानती है कि युद्ध, हल नहीं है. भारत युद्ध और तनाव की भाषा बोले यह कतई जरूरी नहीं. पर भारत इस क्राइसिस (संकट) का क्रिऐटव रिस्पांस (सृजनात्मक प्रतिउत्तर) तो दे सकता है, देश को सर्वूोष्ठ बनाने का संकल्प लेकर. देश का मनोबल बढ़ा कर. उत्साह, ऊर्जा और बदलाव की नयी राजनीति शुरू कर. भ्रष्टाचार, वंशवाद, कमीशनखोरी के खिलाफ़ जंग आरंभ कर. स्विस बैंक से जमा धन लाकर. राष्ट्रीय मिजाज और मन बनाकर. अंदरूनी रूप से ताकतवर-महाशक्ति बनाकर. चाणक्य की बातें याद रखिए, चीन अपनी ताकत की भाषा बोल रहा है. चीन की समृद्धि, अहंकार और प्रगति बोल रहे हैं. उसके महाशक्ति होने का गुरूर बोल रहा है. आज दक्षिण अफ्रीका, लातीनी अमेरिका और आस्ट्रेलिया वगैरह में बड़े पैमाने पर चीन निवेश कर रहा है, किन चीजों पर? प्राकृतिक संसाधनों पर. पेट्रोल, कोयला, आयरन ओर वगैरह पर. उसके पास इन चीजों के सबसे बड़े भंडार हैं, पर वह खरच नहीं रहा. पहले वह विदेशों की ऐसी चीजों का उपयोग करेगा. बर्मा के प्राकृतिक संसाधनों पर तो उसका ओधपत्य जैसा है. चीन की विस्तारवादी नीति की गहराई में उतरें, पायेंगे, वह 21वीं शताब्दी में नये साम्राज्यवादी रूझान से विस्तार-कार्य कर रहा है. सांसद इंदर सिंह नामधारी ने एक सार्वजनिक सभा में बताया कि चीन के एक बुद्धिजीवी ने एक रणनीतिक डाकूमेंट तैयार किया है, जिसके तहत वह भारत को 25 या 26 हिस्सों में बंटा देखता है. श्री नामधारी के अनुसार चीन का यह अघोषित एजेंडा है.
यह सब देखकर चर्चिल याद आते हैं. बहत पहले उन्होंने कहा था. चीनी चरित्र-इतिहास का अध्ययन-मनन कर, इन चीनियों को सोये ही रहने दें, ये जगेंगे तो पूरे विश्व पर ओधपत्य बनायेंगे. आज चीन की चर्चिल की भविष्यवाणी को साकार करता दिख रहा है. दो वर्षो पहले माओ के चीन पर एक विश्वचर्चित पुस्तक आयी. उसमें एक जगह उल्लेख है कि विश्व का नक्शा निहारते हुए माओ ने कहा कि हमें दुनिया को नियंत्रित करना चाहिए. इस तरह चीन के इरादे, मंसूबे शुरू से साफ़ हैं. 62 में भारत ने इसका स्वाद भी चखा आज भारत के आसपास के समुद्र में उसकी उपस्थिति है.और महाबली अमेरिका?देहाती भाव-भाषा में कहें, तो उसके आगे पानी भर रहा है. यकीन नहीं होगा, तो ये दो बयान पढ़ कर गौर करिए. चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबो ने हाल ही में सार्वजनिक बयान दिया. कहा कि चीन थोड़ा चिंतित है, अपने लिए नहीं, बल्कि अमेरिका के लिए. हमने अमेरिका को भारी कर्ज दिया है, इसलिए हमारी चिंता स्वाभाविक है. साथ ही यह चेतावनी भी कि अमेरिका अपने वचन का पालन करे (आनर इट्‌स वर्ड्‌स) और चीन की परिसंपत्ति की सुरक्षा का आश्वासन दे. साहूकार और कर्जदार के बीच की बेमरउव्वत बातें. न्यूजवीक (30 मार्च 2009) ने लिखा, यह इतिहास का स्तब्धकारी मोड़ है. एक वर्ष पहले एक ऐसी धमकी संपन्न देश देते थे. मसलन अमेरिका गरीब देशों से इसी भाषा, भाव और लहजे में बोलता था. खुलेआम. अब अमेरिका की वह जगह चीन ने ले ली है. कैसे और क्यों? यह न्यूजवीक ही बताता है, चाइना आर स्ट्रांगर, मोर इकानामिकली कांपिटेंट एंड वास्टली रिचर (चीन मजबूत है, ओर्थक रूप से कुशल और अत्यंत संपन्न) टाइम पत्रिका का विशेष अंक (10 अगस्त 2009) कहता है, दुनिया की 10 बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक मात्र चीन है, जो आगे बढ़ रहा है, और यह जल्द ही जापान को पछाड़ कर दुनिया में दूसरे नंबर की अर्थव्यवस्था होगा. इसी टाइम पत्रिका में अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा का 27 जुलाई का दिया गया बयान है, कि वाशिंगटन (यानी अमेरिका) का बीजिंग (यानी चीन) से रिश्ता ही 21 वीं शताब्दी का स्वरूप तय करेगा. चीन की यह हैसियत कैसे बनी? 29 जून के टाइम के अनुसार इट (चाइना) हैड बिकम द वर्ल्डस लो कास्ट, इनक्रीजिंगली हाइक्वालिटी मैनुफ़ैक्चरिंग हब. दे लव्स इट्‌स वास्ट एंड ग्रोइंग रैंक्स आफ़ मिडिल क्लास कंज्यूमर्स (सबसे कम लागत में उत्पादन करनेवाली दुनिया की अर्थव्यवस्था. ूोष्ठ किस्म का मैनिफ़ैक्चरिंग हब. बड़े मध्यवर्ग को बढ़ाना-फ़ैलाना, जिनकी शगल है.)
प्रखर विचारक किशोर महबूबानी (डीन, ली क्वान यू स्कूल आफ़ पब्लिक पालिसी, सिंगापुर ने अपने एक लेख में कहा है कि चीन और भारत दोनों को अपने दो सौ वर्ष पुराने इनकांपीटेंट परफ़ारमेंस (अक्षम कामकाज) को त्यागकर बड़ी ताकत बनाना होगा. चीन इसी रास्ते पर है, पर भारत? लगातार इनकांपीटेंट (अक्षम) बनता. प्रशासन में, विकास में, वितरण में, राजनीति में, अर्थनीति में, सबसे अधिक एटीट्यूड और एप्रोच में. 1962 के पराजय से इसने कुछ सीखा नहीं. आज भी ताकतवर देशों के सामने हम चिरौरी करते, घिघियाते, रिरियाते नजर आते हैं. उस हार ने कैसे पूरे देश को शर्म में डुबो दिया? उस दौरान चरित्र, मूल्य, योजना, विकास, राष्ट्रीयता, नवनिर्माण शब्द अर्थहीन बन गये थे. हम अमेरिका के सामने गिड़गिड़ा रहे थे. हथियार मांग रहे थे. हमारी ख्वाहिश थी कि केनेडी बंगाल की खाड़ी में एक जहाजी बेड़ा बैठा दें. हमारी रक्षा के लिए. चीन के एटम बम से भयभीत अमेरिकी एटमी छतरी की मांग कर रहे थे. उधर नि:शस्त्रीकरण के गुण भी गा रहे थे. 62 में जब चीनी सिपाही हिमालय पार कर बोमडीला पहुंच गये, तो भारतीय प्रशासन भाग खड़ा हुआ. नेहरू ने उत्तरपूर्व राज्यों के नाम ऐसे संदेश दिये, जिसे वे आज भी भूल नहीं पाते हैं. हमारा संकल्प मनोबल टूट चुका था. जबरदस्तआघात. बहुत दिनों बाद, प्रखर पत्रकार राजेंद्र माथुर ने उन दिनों को याद करने हुए भारत के मानस पर टिप्पणी की थी, हम अगर वियतनाम होते, तो एटमी शक्ति से लड़ने के बावजूद हम जीत जाते. लेकिन हम हिंदुस्तानी हैं. जो हाथी के मुकाबले घोड़े से, घोड़े के मुकाबले बंदूक से और स्थावर रणनीति के मुकाबले चपल और जंगम राणनीति से हमेशा हारा है. कई बार हम बंदर घुड़की से और मात्र पराजय के अंदेशो से पराजित हो जाते हैं.
इसी संदर्भ में अपना अतीत भी माथुर साहब ने याद किया है. हम यह भी भूल गये हैं कि यह वह देश है, जहां अनंगपाल का हाथी यदि संयोगवश पीछे भागने लगे, तो सारी सेना में भगदड़ मच जाती है और वह हार मान लेती है. राजा अथवा राजधानी का पतन होते ही कितनी बार सारा राज्य हमने देखते-देखते गवांया है.
यह मूल्क भूल गया है कि तीसरी संसद ने शपथ ली थी कि 62 में चीन ने भारत की जो भूमि हथिया ली, उसे वापस लिये बिना बात नहीं होगी. सरकारी आंकड़ों के हिसाब से ही 18 हजार वर्ग मील जमीन पर चीन का कब्जा है. यह ग्लानि तो देश भूल ही गया है, पर रोज-रोज चीन की धमकी. शब्दों से नहीं, काम और हरकत से. और भारत खामोश. क्या इस मुल्क का मान-अपमान नहीं है? किशन पटनायक मानते थे कि प्रतिगामी बुद्धिजीवियों की भूमिका या बुद्धिजीवियों की कायरता से यह हालात है. जनसाधारण के चरित्र, स्वभाव और विचार को कौन प्रभावित कर सकता है? बुद्धिजीवी या विचारक ही. पर हमारे इस वर्ग की क्या स्थिति है? पद, पैसा और शासन वर्ग की चारण सेवा. मुल्क, देश, समाज या राज्य के लिए कोई विजन नहीं, कोई सपना नहीं. एक दूसरे की धोती खोलना ही हमारा राष्ट्रीय चरित्र बन गया है.
हर घर, परिवार, दल में, समाज और देश में, जयचंद संस्कृति है. एक दूसरे को पछाड़ो, नीचा दिखाओं. डा. राममनोहर लोहिया ने 1952 में एक व्याख्यान दिया था. निराशा के कर्तव्य. वह आज भी भारत को समझने का कारगर विेषण हैं. गुलाम मानस और गुलामी के शिकार हैं. हमें कई बार लगता है कि हमारे रक्त और धमियों में पौरूष, बहादुरी, संकल्प है ही नहीं. हम कायर और पराजित लोग हैं. समय के लिलाट पर इबारत लिखने का साहस हममें हैं ही नहीं. हम वेतन सरकार से लेंगे पर काम नहीं करेंगे. हम भ्रष्टाचार कर, घर लूटेंगे व स्विस बैंक में धन जमा करेंगे. चंगेज, तैमूर, गोरी और अंग्रेजों से भी बदतर सलूक हम अपने साथ कर रहे हैं. इंदिरा आवास में गरीबों को लूटेंगे. बूढ़ों का पेंशन खा लेंगे. गांधी के सबसे गरीब इंसान के लिए बने नरेगा में भी डाका डालेंगे. यह हमारा सामाजिक चरित्र है. हम भ्रष्टों की सार्वजनिक पूजा करेंगे. आज सारा समाज चोरों की मूर्ति पूजा का अभ्यस्थ हो गया है. सत्ता की........भटक रहें हैं. चरित्रवान किसी तरह जीवन काट रहें हैं. हम किसी के बारे में कुछ भी कह या बोल सकते हैं बिना जाने. ये हमारा चरित्र हो गया है. हम आपस में एक दूसरे का नाश कर देंगे. जाति के नाम पर, धर्म के नाम पर, राजनीति के नाम पर, क्षेत्र के नाम पर? इसके उलट चीन देखिए, उसका हौसला, संकल्प, मानस और मंसूबे. उसकी उपलब्धि प्रेरित करती है. पर हम देख कर भी नहीं सीखने वाले अंधे लोग कौन है?क्यों हम ऐसे है?
हमारा न नीजि चरित्र है, न राष्ट्रीय, न स्वाभिमान, न वह सात्विक जिद जो गांधी युग में पैदा हुआ. कल ही सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की खंडपीठ ने कहा कि हमारा कैरेक्टर (चरित्र) गिर गया है. उन्होंने पटना के ही एक ऐडशनल शेषन जज का हवाला दिया. उनका बंगला खाली कराने के लिए पानी बिजली की सप्लाई काटनी पड़ी.
यह करनी है. जिन्हें न्याय करना है उनकी संपत्ति घोषणा के नाम पर जजों का रूख देश देख ही रहा है. सुप्रीम कोर्ट के ही जजों ने कहा, नियम है पर पालन नहीं होते, नैतिश शक्ति की भी चर्चा की. यह भी कहा कि इसके लिए हमारा पूरा सिस्टम जिम्मेवार है. पूरे समाज पर दोष जाता है. उन्होंने यह भी बताया कि सुप्रीम कोर्ट के कुछ वकील सिर्फ़ पैसा कमाना चाहते हैं. यही कारण है कि आज जजों की कमी है. पर समाज या सामान्य जन को दोषी ठहराना गलत है. हमारे यहां तो मान्यता रही है,महाजनो येन गता: सं पंथा(जिसपर महान लोग गये हों, वही हमारा रास्ता है, पाथेय है) हमारे महान रहनुमा कौन है? सबसे पहले राजनीतिज्ञ फ़िर बुद्धिजीवी, प्रशासक, उद्यमी, वकील, अध्यापक, डॉक्टर, प्रोफ़ेशनल्श वगैरह ही न? क्या हममें से किसी की कोई विशिष्ठ पहचान है? देश और समाज से सिर्फ़ एक ही मांग है, पैसा बढ़ाओं सुविधा बढ़ाओ, काम नहीं करेंगे, उपार्जन नहीं करेंगे पर पांच सितारा जीवन चाहिए. 1980 में गांधीवादी विचारक प्रो. जयदेव सेठी (पूरे सदस्य योजना आयोग) ने आंकलन कर एक भाषण में बताया था कि 20 लाख से अधिक लोग पैरासाइड वर्ग (ओश्रत वर्ग) हैं, जो काम या उत्पादन एक ठेले का नहीं करते, पर पांच सितारा जीवन जीते हैं. यानि सबसे महंगा. आज यह संख्या करोड़ों में होगी. इसमें मुख्य कौन है? दलाल, पूर्व राजनेता वगैरह. आजकल लाइजनर बनने की स्पर्धा है. राष्ट्रीय जीवन शर्म, हया जैसी चीजें ही नहीं है. आज इस दल या खेमें में कल उस दल या खेमें मेंहमारे समाज का प्रगतिशील तबका चरित्र को बुजुर्‌आ अवधारणा मानता है. पर भारत के इतिहास का मध्यकाल देखिए शासकों के अत्याचार के लिलाफ़ समाज को जिंदा रहने की ताकत संतो ने दी. इनमें सबसे अधिक संत समाज के सर्वाध्किा पिछड़ी जातिया या तबकों से थे. पर उनका दर्शन क्या था, संतन को कहां सीकरी सोकाम गांधी ने आजादी की लड़ाई को तप-यज्ञ ही माना उन्होंने चरित्र ही गढ़ने की कोशिश की उस दौर के सभी नेता (चाहे वे जिस भी सिद्धांत के प्रहरी रहे हों) कितने कद्दावर इंसान थे. तिलक जैसे व्यक्ति बरसों मंडाले के तपते पत्थरों पर सोये आह नहीं भरी सुभाष की कुरबानी क्या था? महर्षि अरविंद के कारावास (अलीपुर जेल) की कहानी पढ़िए. छोटा कमरा, पानी पीने और पाखाना जाने का एक ही मग, पर सुविधा की याचना नहीं की. जब साधना में डूबे तो 22वर्षो तक उसी कमरे में ही रह गये. उतरे या निकले ही नहीं. जेपी और लोहिया? सत्ता को लात मारकर जनता के बीच अलख जगाते रहे. निसंग होकर मुसीबतें मोल लेकर. सुविधाविहीन रहकर. जेल जाकर. पर कहीं समझौता नहीं किया. उस दौर में ऐसे हजारों लाखों लोग निकले. यहीं चीज देखकर प्रो. आर्नाल्ड टायनबी ने कहा कि भारत से एक नयी सभ्यता संस्कृति का उदय होगा. उनका आशय पश्चिम की भौतिक संस्कृति के विकल्प से था. लिंकन ने प्राइमरी स्कूल के अध्यापक को पत्र लिखा अपने बेटे के लिए. वह पत्र ऐतिहासिक धरोहर है. उस पत्र में सिर्फ़ चरित्र, कन्विकशन, ईमानदारी के बीज डालने की चर्चा और मांग है. एक जगह वह कहते हैं कि मेरे बेटे को वैसी शिक्षा दीजिए कि वह मुसीबतों-कठिनाइयों की आग में तप कर इस्पात की तरह निखरे. बिना, चरित्र, ईमानदारी, वसूल और विचार कुछ भी संभव नहीं. भारत की राजनीति तो 91 के बाद विचारविहीन है. मुद्दाविहीन. एक ही गणित है सत्ता पाओ. कुरसी हथियाओं. यह राजनीति कैसे देश को आगे ले जायेगी.आज हर प्रगति के बावजूद देश ने यही चरित्र खो दिया है. इस कारण यह प्रगति भी बेमानी लग रही है.अब बिहार के खगड़िया में हुए नरसंहार को ही लीजिए. नरसंहार हुआ नहीं कि राजनीति शुरू हो गयी. अपने-अपने गणित के अनुसार किसी भी दल को इसमें रूचि है ही नहीं कि ऐसी समस्याएं जड़ से कैसे साफ़ हों? इसके पहले भी अनेक नरसंहार हुए. तब भी यह नहीं सोचा गया कि ऐसे सवालों के समाधान क्या है?
एक पहलू यह है कि नक्सलियों ने यह काम किया है? तो नक्सलियों को इस तरह ताकतवर बनने किसने दिया. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने पहले कार्यकाल में दो बार ऑन रेकॉर्ड कहा है कि आजादी के बाद की सबसे बड़ी चुनौती है नक्सलवाद? अब कोई पूछे कि आप देश के प्रधानमंत्री हैं. आपसे ताकतवर कोई दूसरा पद नहीं है. तो समस्या कि गंभीरता आप किसे कह रहे हैं, आप तो समाधान करने की कुरसी पर हैं. आप हल ढूढिए.
अगर ये समस्या प्रशासन के बूते से बाहर है, तो राजनीतिक बातचीत से ही पहल करें. इस समस्या के राजनीतिक समाधान की अंतिम गंभीर कोशिश जयप्रकाश नारायण ने की थी. मुशहरी के उनके अनुभव आमने-सामने पुस्तिका में दर्ज है. इसके बाद तो राजनीतिक दलों ने खुद को समेट लिया. आजकल अधिसंख्य दलों में ठेकेदार ही राजनीतिक कार्यकर्ता हैं. न विचार है न दल. राजनीतिक दल परिवारों, रिश्तेदारों के कुनबे या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बन गये हैं. दलों में आंतरिक लोकतंत्र ही नहीं रहा.
अब केंद्र राज्यों को कहता है लॉ एंड ऑर्डर आपका विषय है इसलिए नक्सलवाद भी आपकी समस्या , ये सरासर धोखा, झूठ और फ़रेब है. पूरे देश में फ़ैले नक्सली समूहों से कोई एक राज्य निबट पायेगा. सरकारों से पूछना चाहिए कि नक्सलियों के पास हथियार कहां से पहुंचते हैं? कौन देता है? हम पर नकेल लगाने का काम किसका है? आतंकवादी हमलों के संदर्भ में पिछले वर्ष मद में राष्ट्रीय सलाहकार, मंत्रिमंडल को पता हो ही चुके हैं. कि इंटेलिजेंस सिस्टम कैसे ध्वस्त है? शहरों से नक्सलियों के पास हथियारों की आपूर्ति होती है, और शहरों पर शासन किसका है? सरकारो का? पर भ्रष्टाचार में डूबा तंत्र सब करवाता है, सब देख-जान रहे हैं, पर किंकत्तर्व्यविमूढ़ हैं. 92 के मुंबई विस्फ़ोट में भारतीय पुलिस-कस्टम के लोग ही दाउद के विस्फ़ोटक भारत लाये थे. इसके बाद वोरा कमिटी बनी थी, जिसने राजनीतिज्ञों-अफ़सरों-उद्यमियों के सांठगांठ की चर्चा की थी. पर वह रिपोर्ट दबा दी गयी. दरअसल भारत का यह शासक वर्ग इन हालातों के लिए दोषी है.
भ्रष्टाचार अशासन, कुशासन और अनुशासनविहीनता हमारी रगों में पैठ गया है. इस सत्ता के ऊपर कुछ देख ही नहीं पा रहे. नाव दुर्घटना हुई, उस पर भी राजनीति, लाशों से नफ़ा-नुकशान का गणित. यह सवाल नहीं उठा कि बिहार में कहां-कहां कितनी नावें चलती हैं? कितने घाट हैं? इनका आधुनिकीकरण कैसे हो? क्यों नहीं अब तक इन जगहों पर पुल बने? कैसे पुल बन सकते हैं? कैसे सारे लोग ऐसी आपदाओं में मिल कर दिल्ली पर दबाव डालें कि वह अधिकतम धन दे, तकनीक दे, एक्सपर्ट दे ताकि दो-तीन वर्षो में हर जगह पुल बन जाये. जहां नावें रहें, वहां उनका आधुनिकीकरण हो.
पर ये समाधान हो जायेंगे, तो राजनीतिक कैसे चलेगी? सत्ता का खेल कैसे होगा?यही हाल है, पूरे देश का हर मुद्दे पर. देश को चाहिए नया संकल्प, नयी राजनीति और नया खून. पर इसके आसार कहां हैं? किसी अवतार की प्रतीक्षा या सामूहिक पहल, सामूहिक कर्म? यह तय करने के दोराहे पर आज देश-समाज खड़े हैं.
उसकी ताकत और अपनी हकीकत :
अफ्रीका में ब़ढ़ता चीनी दबदबा इंडिया फ़ोर्ब्स पत्रिका (अगस्त 28, 2009) के अंक में चीन के बढ़ते प्रभाव का उल्लेख है. वर्ष 2009 में चीन की सरकार ने अफ्रीका में आठ बिलियन डालर के निवेश की घोषणा की. भारत के जो निजी घरानी अफ्रीका में काम कर रहे हैं, वे कहते हैं चीन से मुकाबला असंभव है. वे वहां सड़सें बना रहे हैं. एयरपोर्ट्‌स बना रहे हैं. रेल बिछा रहे हैं. बड़े-बड़े प्रोजेक्ट कर रहे हैं. 20-20 वर्षो का निवेश रिस्क लेकर.
कांगो में चीन 9 बिलियन का निवेश कर रहा है. रोड, रेलवे, अस्पताल, हेल्थ सेंटर और विश्वविद्यालयों में इसके बदले उसे कॉपर (तांबा) और कोबाल्ट के खदान मिले हैं. इसी तरह अंगोला की तेल रिफ़ाइनरी में 55 फ़ीसदी हिस्सा लिया है. तीन बिलियन निवेश कर सूडान, अल्जीरिया, कांगो और गाबन लीबिया में भी निवेश है. जांबिया में 3.6 बिलियन का माइनिंग में निवेश किया है. नाइजीरिया के समुद्र में स्थित तेल रिफ़ाइनरी में 2.27 बिलियन चीनी निवेश है. गुयाना, कीनिया और मडास्कार में भी चीनी निवेश प्राकृतिक संसाधनों में है. अंगोला, अल्जीरिया और कीनिया के टेलिकाम उद्योग में भी चीन का भारी निवेश है. इस तरह चीन दुनिया के कोने-कोने में प्राकृतिक संसाधनों में निवेश कर रहा है. इसके प्रजोजन साफ़ हैं. अपनी शक्ति, सामर्थ्य और संपदा इतनी बढ़ा दो कि दुनिया खुद कदमों सिर रख दे. यह विस्तार चीन के पुरुषार्थ, संकल्प, आत्मविश्वास और इरादों का परिचायक है. इसका भारतीय जवाब का क्या हो सकता है? अपनी गद्दी, अपनी संतान, अपना यश और अपना धन, इस गणित में फ़ंसा मानस क्या इसका जवाब दे सकता है?घेर रहा है?
पाकिस्तान को चीन ने परमाणु सहायता दी है. बदले में वह अरब सागर बंदरगाह में अपनी उपस्थिति चाहता है, ताकि तेल की आपूर्ति की सुरक्षा कर सके. भूटान से राजनीतिक संबंध बना रहा है. बांग्लादेश को चीन ने हथियारों की आपूर्ति की है. बदले में बांगलादेश बंदरगाह में अपनी उपस्थिति चाहता है. लिट्टे के खिलाफ़ युद्ध में श्रीलंका को हथियार देकर उसने ॅणी बना लिया है. नेपाल तो चीन की गोद में ही है. माओवादी उसके झंडाबरदार हैं. म्यामांर (बर्मा) के कोको (आइसलैंड) द्वीप में चीनी सेना मौजूद है. इस तरह भारत के पड़ोसी देशों को सैनिक मदद, राजनीतिक संबंध, ओर्थक मदद दे कर, भारत को घेर रहा है. आइटी इंडस्ट्री में भी चीन भारत को मात दे रहा है. भारत के बाजार में सस्ती चीजें भेज कर भारतीय उद्योगों को तबाह कर रहा है.भारत के क्या ठोस प्लान हैं?ईश्वर जानें! भारत के जानकार विशेषज्ञ तो कहते हैं कि चीन, भारत को अपने समकक्ष मानता ही नहीं. भारतीय सुरक्षा विशेषज्ञ भरत कर्नाड कहते हैं, भारत राजनयिक माइअचेपिया (अंधापन) का शिकार है. चीन सिर्फ़ ताकत की भाषा समझता है. चीन सिर्फ़ अपना हित समझता-साधता है. 2008 में चीन का जीडीपी 4.4 ट्रिलियन डालर था. विश्व की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था. वार्षिक निवेश दर, जीडीपी का 40 फ़ीसदी है. 2008 में 90 बिलियन डालर विदेशी निवेश (एफ़डीआइ) हुआ है. दुनिया में सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा भंडार चीन के पास है, दो ट्रिलियन डालर.
भारत की अर्थव्यवस्था 1.1 ट्रिलियन डालर की है. विशेषज्ञ पराग खन्ना का कहना है कि चीन-भारत के बीच दौड़ (रेस) खत्म हो चुकी है. चीन बहुत आगे निकल चुका है. कोई उम्मीद नहीं है कि भारत, चीन को छू भी सकेगा. वर्ष 2008 में चीन का निर्यात ही 1.4 ट्रिलियन डालर का हुआ. भारत के जीडीपी से अधिक है, यह राशि. दुनिया के कई मुल्कों में चीन ने तेल, गैस और प्राकृतिक संसाधन के भंजार खरीद लिये हैं. तिब्बत में चीन की रेलें दौड़ रही हैं. भारत के पूर्व चीफ़ ऑफ़ आर्मी वीपी मल्लिक भी मानते हैं कि चीन हमारी सुरक्षा योजनाकारों के लिए तात्कालिक गंभीर चुनौती है. तिब्बत में चीन ने डांग फेंग 31 इंटरकांटिनेंटल ब्लास्टिकमिसाइल तैनात कर रखा है, जो 8000 किमी तक मार करेगा. अमेरिका भी इसकी जद में है. डांग फेंग 21 मिसालइल वहां तैनात है, जो 2500 किमी के घेरे में कहीं प्रहार कर सकता है. यह भारत में कहीं भी पहुंच सकता है. भारत ने मिसाइल परीक्षण जरूर किया है, पर इसकी तैनाती नहीं.
भारत को क्या करना चाहिए? बात शांति की करें, पर युद्ध की तैयारी रखे. न्यूक्लीयर हथियार जरूरी हैं. 5000 किमी तक मार करनेवाले मिसाइल चाहिए. दुनिया के दूसरे देशों से मिल कर नौ सेना को मजबूत करना चाहिए. अमेरिका से संबंध मजबूत बनाना चाहिए. इन सबके साथ-साथ खुद चीन से भारत प्रेरित हो. महज 2030 वर्षो में देश धूल से उठ कर दुनिया में कैसे छा गया है? क्या हैं उसके कर्म, पौरुष और प्रतिबद्धता ? भारत का मानस,चीन के मानस से सीखे, तब भारत आंतरिक रूप से मजबूत हो सकता है.

(प्रभात खबर से साभार )
 

2 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

चीन तो शुरू से ही भारत के क्षेत्रों पर नज़र लगाए बैठा है .......... विस्तारवादी नीति है उसकी .......... उसको मालुम है हमारे देश के नेताओं को जब मर्जी जैसे मर्जी घुमाया जा सकता है ........

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

एक सुन्दर आलेख प्रस्तुति के लिए आपका हार्दिक शुक्रिया !
निम्नांकित पक्ति में एक लाईन और जोड़ने की अनुमति चाहता हूँ ;
"भ्रष्टाचार अशासन, कुशासन और अनुशासनविहीनता हमारी रगों में पैठ गया है. इस सत्ता के ऊपर कुछ देख ही नहीं पा रहे"....जिनके कंधो पर राष्ट्र का भार सौंपा गया है, उनकी गर्दन पहले ही कृतज्ञता के बोझ तले इतनी झुकी हुई है कि वे सर उठाकर अपने इधर-उधर भी ठीक से नहीं देख पाते !